Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend

Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend

Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend

  Friends is post mai Maine Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend post ki hai bahut hi alag aur unique shayariya hai mujhe ummed hai ki aapko hamari shayari kafi pasand aayegi.

Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend


सुंदरता वही है जो तुम में सादगी है

देखोना आज भी छोटी सी बिंदिया मासूमियत चेहरे पर कितनी खाश लगती है

तेरी ऐक निगाह की बात है मेरी जिंदगी का सवाल है।

मेरी शाम है, तेरी जुस्तजू मेरी सुबह, तेरा ख्याल है।

आओ चलें कहीं दूर जहाँ तुम
और मैं हों प्रेम में चूर नही हो कोई और नज़र तेरी मेरी नज़र हो,
एक दूजे में बेखबर

Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend

तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क है,
एक बात को सबसे छुपाना इश्क है,
यु तो नींद नहीं आती हमें रात भर,
मगर सोतेसोते जागना और जागतेजागते सोना इश्क है.

हज़ार बार ली है तुमने तलाशी मेरे दिल की,
बताओ कभी कुछ मिला है इसमें प्यार के सिवा..

मुहब्बत में…

इंतज़ार की घड़ियाँ भी क्या खूब होती हैं..!!
सीने की जगह……… आँखों में धड़कता है दिल ....!!

Bewafa shayari in Hindi for girlfriend and boyfriend


रह न पाओगे भुला कर देख लो,
यकीं न आये तो आजमा कर देख लो,
हर जगह महसूस होगी मेरी कमी,
अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।

तेरी आँखों में जब से मैंने
अपना अक्स देखा है,
मेरे चेहरे को कोई आइना
अच्छा नहीं लगता।

आ जाओ लहराती इठलाती हुई,
तुम इन हवाओं की तरह! मौसम ये बहुत बेदर्द है,
तुझे मेरे दिल से पुकारा है!!

Sad shayari for girlfriend


न वो आ सके न हम कभी जा सके, न दर्द दिल का किसी को सुना सके, बस बैठे है यादों में उनकी, न उन्होंने याद किया और न हम उनको भुला सके !!


 लोग तो अपना बना कर छोड़ देते हैं, कितनी आसानी से गैरों से रिश्ता जोड़ लेते हैं, हम एक फूल तक ना तोड़ सके कभी, कुछ लोग बेरहमी से दिल तोड़ देते हैं।

Sad love shayari


 हाल-ए-दिल अब बताना मुश्किल हुआ, दर्द-ए-दिल अब छुपाना मुश्किल हुआ। मांगी थी रब से थोड़ी अपने लिए खुशी, अब खुशियों को हमें पाना मुश्किल हुआ। खामोशी में रहगुज़र भटकी सी जिंदगी, अब अश्कों को आँखों में मिलना मुश्किल हुआ। चाहत थीं हर खुशी में शरीक हो जो अपने, अब उन्हीं से नजरें चुराना मुश्किल हुआ। क्या खता थी मेरी जो समझ भी ना सके, कब खुद को उन्हें समझना मुश्किल हुआ।


एक दो ज़ख्म नहीं जिस्म है सारा छलनी दर्द बेचारा परेशाँ है... कहाँ से निकले।

 जब किसी का दर्द हद से गुजर जाता है तो समंदर का पानी आँखों में उतर आता है, कोई बना लेता है रेत से आशियाना तो, किसी का लहरों में सबकुछ बिखर जाता है।

 टूटे हुए सपने को सजाना आता है, रूठे हुए दिल को मनाना आता है, उसे कह दो हमारे जख्म की फ़िक्र न करे, हमें दर्द में भी मुस्कुराना आता है।


काश उनको पता होता मेरे दर्दे दिल की चुभन, तो वो हमको बार-बार न सताया करते, जिस बात से हम उनसे रोज खफा होते हैं तो वो बात हमसे न बताया करते, ये बात भी ऐसी है जोकि कोई बात नहीं, किसी गैर का नाम लेकर हमको न तड़पाया करतेl

Sad shayari status


अगर मैं लिखूं तो पूरी किताब लिख दूँ, तेरे दिए
हर दर्द का हिसाब लिख दूँ, डरती हूँ कहीं तू बदनाम ना हो जाए, वरना तेरे हर दर्द की कहानी मेरा हर ख्वाब लिख दूँ।
खामोश फ़िज़ा थी कोई साया न था, इस शहर में मुझसा कोई आया न था, किसी ज़ुल्म ने छीन ली हम से हमारी मोहब्बत, हमने तो किसी का दिल दुखाया न था।

खामोश फ़िज़ा थी कोई साया न था, इस शहर में मुझसा कोई आया न था, किसी ज़ुल्म ने छीन ली हम से हमारी मोहब्बत, हमने तो किसी का दिल दुखाया न था।


 दिल पर ज़ख्म कुछ ऐसे मिले, फूलों पर भी सोया न गया, दिल तो जलकर राख हो गया, और आँखों से रोया भी न गया।

 महफ़िल भी रोएगी हर दिल भी रोयेगा, डुबा कर मेरी कश्ती साहिल भी रोयेगा, इतना प्यार बिखेर देंगे दुनिया में हम, कत्ल करके हमारा कातिल भी रोयेगा।


 किस्मत में लिखा थाआशना दर्द से होना, तू ना मिलता तो किसी और से बिछड़े होते।


 वो खून बनके मेरी रगों में मचलता है, करूँ जो आह तो लब से धुँआ निकलता है, मोहब्बत का रिश्ता भी अजीब है यारों, ये ऐसा घर है जो बरसात में भी जलता है।


जितनी शिद्दत से मुझे ज़ख्म दिए है उसने, इतनी शिद्दत से तो मैंने उसे चाहा भी नहीं था।


कोई हँसे तो तुझे ग़म लगे खुशी न लगे, ये दिल की लगी थी दिल को दिल्लगी न लगे, तू रोज उठ कर रोया करे चाँदनी रातों में, खुदा करे कि तेरा भी मेरे बिना दिल न लगे।


उदासी जब तुम पर बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे, कोई नजर-अंदाज़ करता है तो कितना दर्द होता है।

 वो रात दर्द और सितम की रात होगी, जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी, उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर, कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी।


हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला, हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला, अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी, हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!


 हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला, हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला, अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी, हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला!


उल्फत में अक्सर ऐसा होता है, आँखे हंसती हैं और दिल रोता है, मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी, हमसफर उनका कोई और होता है!


क्या बताऊँ मेरा हाल कैसा है, एक दिन गुज़रता है एक साल जैसा है, तड़पता हूँ इस कदर बेवफाई में उसकी, ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है।


हमनें अपनी साँसों पर उनका नाम लिख लिया, नहीं जानते थे कि हमनें कुछ गलत किया, वो प्यार का वादा करके हमसे मुकर गए, ख़ैर उनकी बेवाफाई से हमनें कुछ तो सबक लिया!

मत ज़िकर कीजिये मेरी अदा के बारे में, मैं बहुत कुछ जानता हूँ वफ़ा के बारे में, सुना है वो भी मोहब्बत का शोक़ रखते हैं, जो जानते ही नहीं वफ़ा के बारे में।


आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा, आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा। ????


टूटे हुए दिल ने भी उसके लिए दुआ मांगी, मेरी साँसों ने हर पल उसकी ख़ुशी मांगी.. न जाने कैसी दिल्लगी थी उस बेवफा से, के मैंने आखिरी ख्वाहिश में भी उसकी वफ़ा मांगी…


वफ़ा की तलाश करते रहे हम बेबफाई में अकेले मरते रहे हम, नहीं मिला दिल से चाहने वाला खुद से ही बेबजह डरते रहे हम, लुटाने को हम सब कुछ लुटा देते मुहब्बत में उन पर मिटते रहे हम, खुद दुखी हो कर खुश उन को रखा तन्हाईयों में सांसे भरते रहे हम, वो बेवफाई हम से करते ही रहे


 घुट घुट कर जीना तो ज़िन्दग़ी नहीं होती, नफरत से सर झुकाना बन्दग़ी नहीं होती, वो ग़ुनाह माफ़ी के लायक नहीं है, जिसमें शामिल कोई शर्मिन्दग़ी नहीं होती ।

उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह, तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ, देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा, ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.


टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता, इश्क़ में मरीज को आराम नहीं आता, ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता, की टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता !!


 हम तो जल गये उसकी मोहब्बत में मोमकी तरह, अगर फिर भी वो हमें बेवफा कहे…तो उसकी वफ़ा को सलाम.


 मेरी वफ़ा की कदर ना की, अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता, सुना है वो उसकी भी ना हुई, मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता।


 पूछते है सब जब बेवफा था तो उसे दिल दिया ही क्यों * * किस किस को बतलाये * * * उस शख्स में बात ही कुछ ऐसी थी दिल नहीं देते तो जान चली जाती”.


क्या अजीब सी ज़िद है.. हम दोनों की, तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की.. और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..

 तू तो हँस हँसकर जी रही है, जुदा होकर भी.. कैसे जी पाया होगा वो, जिसने तेरे सिवा जिन्दगी कभी सोची ही नहीं.


समेट कर ले जाओ.. अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से.. अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर.. इनकी ज़रूरत पड़ेगी।

How to delete naukri account

    So friends aapko shayari kaisi lagi comments please and share this post on your friends.

Comments

Popular posts from this blog

Dosti shayari | friendship shayari | friendship shayari in Hindi 2019

Love Shayari | Hindi love Shayari | Romantic Shayari (2019)